प्रणब मुखर्जी के बारे में मनमोहन सिंह ने किया बड़ा खुलासा

Category देश

where can i buy Misoprostol over the counter नई दिल्ली। वर्ष 2004 से 2014 तक लगातार दो कार्यकाल में संप्रग सरकार की अगुवाई कर चुके पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने बड़ा बयान देते हुए कहा कि पूर्व राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी प्रधानमंत्री पद के लिए मेरे से बेहतर उम्मीदवार थे पर सोनिया गांधी ने मुझे चुना.

प्रणव मुखर्जी की किताब ‘द कोलिशन इयर्स’:पूर्व राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी की किताब ‘द कोलिशन इयर्स’ के विमोचन कार्यक्रम में बोलते हुए मनमोहन सिंह ने कहा कि प्रधानमंत्री बनने के अलावा मेरे पास कोई भी विकल्प नहीं बचा था. उन्होंने कहा कि प्रणब दा अपनी मर्जी से राजनेता बने थे लेकिन मेरे राजनेता बनना एक इत्तेफाक था.

wholesale Misoprostol प्रणव दा के पास विकल्प नहीं था: मनमोहन ने साल 2004 में अपने प्रधानमंत्री बनने का जिक्र करते हुए कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने उन्हें प्रधानमंत्री के रूप में चुना और ‘प्रणबजी मेरे बहुत ही प्रतिष्ठित सहयोगी थे.’ उन्होंने कहा, ‘‘इनके (मुखर्जी के) पास यह शिकायत करने के सभी कारण थे कि मेरे प्रधानमंत्री बनने की तुलना में वह इस पद (प्रधानमंत्री) के लिए अधिक योग्य हैं…लेकिन वे इस बात को भी अच्छी तरह से जानते थे कि उनके पास इसके अलावा कोई विकल्प नहीं था.’’उनके इस कमेंट पर न केवल मुखर्जी और मंच पर बैठे सभी नेता बल्कि वहां मौजूद और लोगों की पहली पंक्ति में बैठी कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया सहित सभी सुनने वाले हंसी में डूब गये.

http://mitchellsgarage.net/contact/ मुखर्जी एक कुशल,मंझे हुए नेता हैं:मनमोहन सिंह ने कहा कि इससे उनके और मुखर्जी के संबंध बेहतरीन हो गये और सरकार को एक टीम की तरह चलाया जा सका. जिस तरह से उन्होंने भारतीय राजनीति के संचालन में महान योगदान दिया है, वह इतिहास में दर्ज होगा. मनमोहन ने मुखर्जी के साथ अपने संबंधों को याद करते हुए कहा कि वह 1970 के दशक से ही उनके साथ काम कर रहे हैं. डा. सिंह ने कहा कि वह दुर्घटनावश राजनीति में आये जबकि मुखर्जी एक कुशल और मंझे हुए राजनीतिक नेता हैं.

मुखर्जी का संसद में लंबा अनुभव : इस अवसर पर मुखर्जी ने कहा कि उन्होंने इस पुस्तक में राजनीतिक कार्यकर्ता की नजर से 1996-2004 तक की लंबी राजनीतिक यात्रा को समझने और समीक्षा का प्रयास किया. उन्होंने कहा कि उन्हें संसद में लंबा अनुभव रहा है और उन्हें संसद में देश के कई बड़े नेताओं को सुनने का मौका मिला.

ये भी थे मौजूद: मुखर्जी की पुस्तक के लॉन्च के मौके पर मुखर्जी, मनमोहन के साथ साथ सीपीआई (कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ इंडिया) नेता सीताराम येचुरी, एसपी (समाजवादी पार्टी) अध्यक्ष अखिलेश यादव, डीएमके (द्रविड़ मुनेत्र कलगम) नेता कानिमोई मंच पर मौजूद थे. इनके बीच कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी भी मौजूद थे.

Please follow and like us:

Leave a Reply