1.4करोड़ आबादी देश निकाले के संकट में

Image source: Internet

नई दिल्ली। सोमवार सुबह 12:00 बजे तक असम में एनआरसी द्वारा जारी होने वाले दूसरे ड्राफ्ट मैं नाम होने की चिंता 1.4 करोड़ लोगों को सता रही हैं। यह वही लोग हैं जिनका नाम 31 दिसंबर को जारी हुए पहले ड्राफ्ट में नहीं था। कई लोग कानूनी सलाहकारों से एवं वकीलों से संपर्क में है और कानूनी कार्रवाई के लिए तैयार है। इस ड्राफ्ट में भी उनका नाम नहीं रहा तो उन पर कानूनी कार्यवाही होगी।

एनआरसी अभियान है क्या ?

असम में अवैध रूप से रह रहे लोगों को उनके देश वापस भेजने के लिए एवं तमाम आबादी में से भारतीय निवासियों का पता लगाने हेतु सरकार ने नेशनल रजिस्टर ऑफ सिटीजन एन.आर.सी अभियान चलाया है। विश्व के सबसे बड़े अभियानों में से यह एक है। अभियान में सबसे पहले लोगों की पहचान करी जाएगी फिर उन सभी को उन्हीं के देश भेज दिया जाएगा। विभिन्न जानकारियों के हिसाब से बताया जाता है कि करीब 50 लाख बांग्लादेशी गैरकानूनी तरीके से असम में रह रहे हैं।इसके कारण कई अवैध गैरकानूनी प्रक्रिया होती रहती है एवं असम में आर्थिक समस्या बनी हुई है जिन्हें दूर करने के लिए सरकार ने एनआरसी की पहल करी हैं।
एनआरसी की जो पहली लिस्ट थी उसमें करीब 2करोड 24लाख लोगों का नाम जारी किया गया था। लेकिन उसमें से एक करोड़ 40लाख लोगों का नाम शामिल नहीं था। इस वजह से सरकार ने एलान करा था की अगली लिस्ट जो की दूसरी और आखरी होगी उसे जल्द ही जारी कर दिया जाएगा।

Please follow and like us:

Leave a Reply

Skip to toolbar