बनारस में भाजपा कार्यकर्ताओं ने केशव मौर्या मुर्दाबाद के नारे लगाए

वाराणसी.यहां काशी क्षेत्र के 14 जिलों की मीटिंग लेने पहुंचे उत्तर प्रदेश भाजपा अध्यक्ष केशव प्रसाद मौर्या का कार्यकर्ताओं ने जमकर विरोध किया। बीजेपी के टि‍कट बंटवारे कोलेकर नाराज कार्यकर्ताओं ने मौर्या के सामने ही मुर्दाबाद और वापस
जाओ के नारे तक लगाए। यही नहीं नरेंद्र मोदी के जनसंपर्क ऑफि‍स में भी नारे लगाकर विरोध किया। कार्यकर्ताओं की
इस हरकत पर मौर्या ने मंच से ही कहा, 2017 का चुनाव जीतना है। संयम
नहीं रखेंगे तो 2019 का चुनाव नरेंद्र मोदी को जीता पाना मुश्किल होगा।

मौर्या का मुर्दाबाद से स्वागत 
पूर्वांचल के बीजे पी कार्यकर्ताओं  के साथ मीटिंग लेने जैसे ही  केशव प्रसाद मौर्या और वरिष्‍ठ नेता ओम माथुर पहुंचे वैसे ही कार्यकर्ताओं ने उनका स्वागत मुर्दाबाद के नारों से साथ किया। टिकट बंटवारे को लेकर मुख्य रूप से वाराणसी के कैंट, रोहनिया, जौनपुर के सदर, जौनपुर के ही बदलापुर और मिर्जापुर के मड़िआऊ विधानसभा को लेकर था। विरोध होता देख केशव मौर्या ने बैठक से बाहर भी जाने की गुजारिश कर दी।

Please follow and like us:

कश्मीर हिमस्खलन: गुरेज में 4 और जवानों के शव बरामद, 15 फौजी समेत 21 की मौत

श्रीनगर.कश्मीर के गुरेज सेक्टर में बुधवार को हुई हिमस्खलन की दो घटनाओं में शहीद होने वाले जवानों का आंकड़ा 15 हो गया है. गुरुवार को 4 और शवों को बरामद किया गया है जिसके बाद रेसक्यू ऑपरेशन खत्म हो गया है. शहीद होने वालों में 1 मेजर और 14 जवान शामिल हैं. इसके अलावा 6 नागरिकों की भी राज्य में हिमस्खलन और बर्फीले तूफान के कारण मौत हो गई है. कुल आंकड़ा 21 तक पहुंच गया है. गौरतलब है कि घाटी में बेहद खराब मौसम और बर्फबारी से हालात खराब है. जगह-जगह बर्फीले तूफान या हिमस्खलन का सिल‍सिला जारी है.
बुधवार सीमा के पास गुरेज सेक्टर में हुई हिमस्खलन की घटना में कई जवान दब गए थे. इस घटना में एक जेसीओ सहित छह जवानों को बचा लिया गया है. इसी इलाके में कल हुई हिमस्खलन की एक और घटना में सेना का एक निगरानी वाहन लापता हो गया था.

एक दिन पहले ही गांदरबल जिले के सोनमर्ग इलाके में स्थित सेना के एक शि‍विर में हिमस्खलन से एक मेजर की मौत हो गई थी. दूसरी तरफ, कुपवाड़ा जिले में स्थित तुलेल में बर्फीला तूफान आने से चार लोगों के उसके नीचे दबकर मर गए थे. गौरतलब है कि कश्मीर में भारी बर्फबारी हो रही है और मौसम बेहद खराब हो गया है. मंगलवार शाम को ऐसे बर्फीले तूफान आने की चेतावनी पहले ही जारी की जा चुकी थी. बर्फीले तूफान से प्रभावित पूरे इलाके में बचाव कार्य किया जा रहा है. बुधवाार से अब तक कश्मीर में हिमस्खलन की तीन बड़ी घटनाएं हो चुकी हैं. प्रशासन ने लोगों को घर के भीतर रही रहने की सलाह दी है.

Please follow and like us: