दलित-मराठा हिंसा: संभाजी भिड़े को गिरफ्तार किया जाए- प्रकाश अंबेडकर

मिलिंद एकबोटे, संभा जी भिड़े, प्रकाश आंबेडकर

मुंबई. महाराष्ट्र के पुणे में हिंसा की आग अभी ठंडी नहीं हुई है. दलित समाज में तेज़ी से दो हिन्दू नेता संभाजी भिड़े और मिलिंद एकबोटे को गिरफ्तार करने की मांग तेज़ी से बढ़ती जा रही है. संभाजी भिडे इलाके में हिंदुत्व का बहुत बड़ा चेहरा है और पीएम मोदी के क़रीबी भी हैं. वहीं दूसरे आरोपी मिलिंद एकबोटे हिंदू एकता मोर्चा नाम का संगठन चलाते हैं और शिव सेना- भाजपा से गहरे रिश्ते हैं.महाराष्ट्र बंद बुलाने वाले दलित नेता प्रकाश अंबेडकर ने एक बार फिर मुख्यमंत्री देंवेंद्र फडणवीस से अपील की है कि जल्द से जल्द संभाजी भिड़े को गिरफ्तार किया जाए. प्रकाश अंबेडकर ने कहा कि दलितों का गुस्सा तबतक शांत नहीं होगा, जबतक संभाजी भिड़े और मिलिंद एकबोते को गिरफ्तार नहीं किया जाएगा.
मुख्यमंत्री से मुलाकात के बाद प्रकाश आंबेडकर ने कहा कि सरकार इस बात पर राजी हुई है कि वह प्रदर्शनकारियों के खिलाफ कड़े एक्शन नहीं लेगी. सरकार हमारी मांगों को मानने के लिए तैयार हुई है. बंद के दौरान हम अपने प्रदर्शनकारियों का गुस्सा शांत रख पाए, लेकिन ऐसा ज्यादा दिनों तक नहीं चल पाएगा.भीमा-कोरेगांव लड़ाई की सालगिरह पर भड़की हिंसा का असर समूचे महाराष्ट्र पर पड़ा है. मुंबई पुलिस ने कुल 25 लोगों पर एफआईआर दर्ज की है, इसके अलावा कुल 300 लोगों को हिरासत में लिया गया है. मुंबई पुलिस ने दलित नेता जिग्नेश मेवाणी और छात्र नेता उमर खालिद को नोटिस जारी किया है, उनके सार्वजनिक भाषण पर रोक लगाई गई है.
कौन हैं संभाजी भिड़े?
संभाजी भिड़े को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने परम आदरणीय और गुरुजी कहा था. इनपर हिंसा भड़काने के आरोप में केस दर्ज हुआ है. माथे पर लंबा टीका और मराठी टोपी और तीखा भाषण इनकी पहचान है. संभाजी भिड़े की सख्शियत ऐसी है कि उनके एक हुक्म पर लाखों युवा इकट्ठा हो जाते हैं.प्रधानमंत्री मोदी भी संभाजी भिड़े का बहुत आदर करते हैं और उनके संगठन शिव प्रतिष्ठान के कार्यक्रमों में जा चुके हैं. इसी बात से आप संभाजी की हैसियत का अंदाजा लगा सकते हैं.संभाजी भिड़े महाराष्ट्र के जाने-माने नेता हैं. वह महाराष्ट्र के सांगली जिले के रहने वाले हैं. भिडे कोल्हापुर में शिव प्रतिष्ठान नाम का संगठन चलाते हैं और मराठा सम्राट छत्रपति शिवाजी के अनुयायी हैं. इन्होंने अटॉमिक साइंस में एमएससी की है और पुणे के फर्ग्युसन कॉलेज में प्रोफेसर भी रह चुके हैं. भिड़े की खास बात ये है कि वो हमेशा नंगे पैर चलते हैं.भिड़े ने आज तक अपना कोई मकान नहीं बनाया है और ना ही कभी कार से चलते हैं. इन्हीं खासियतों की वजह से संभाजी के लाखों की संख्या में फॉलोवर हैं और उनके एक इशारे पर चार से पांच लाख युवा एक जगह इकट्ठा हो जाते हैं. पुलिस अब तक 85 साल के संभाजी को गिरफ्तार करने में नाकाम रही है.

कौन हैं मिलिंद एकबोटे?
मिलिंद एकबोटे पर भी केस दर्ज हुआ है. आरोप है कि मिलिंद एकबोटे के कार्यकर्ताओं ने भीमाकोरे गांव जा रहे दलितों से हिंसा की. आपको बता दें कि मिलिंद एकबोटे हिंदू एकता मोर्चा नाम का संगठन चलाते हैं. 56 साल के मिलिंद एकबोटे गोरक्षा अभियान चलाने के लिए जाने जाते हैं. बीजेपी से 1997 से 2002 तक पुणे के पार्षद रह चुके हैं. इनका पूरा परिवार आएसएस से जुड़ा हुआ है.साल 2014 में मिलिंद एकबोटे ने शिवसेना के टिकट पर विधायक का चुनाव लड़ा था लेकिन हार गए थे. एकबोटे पर दंगा फैलाने, धमकी देने समेत 12 आपराधिक मामले दर्ज हैं. पांच मामलों में मिलिंद एकबोटे को दोषी करार दिया जा चुका है. पुलिस पर एकबोटे और संभाजी भिड़े दोनों को गिरफ्तार करने का दबाव है लेकिन अब तक पुलिस के हाथ खाली हैं.

Please follow and like us:

मोदी की विदेश नीति की विजय जौली ने चीन में की तारीफ़

दिल्ली.पेइचिंग विश्वविद्यालय में अध्ययनरत छात्रों ने ‘भारत -चीन संबंधों में सुधार’ कार्यक्रम के अंतर्गत भारतीय नेताओं,सांसदों – विधायकों को चीन आमंत्रित किया गया.पूर्व विधायक और स्टडी ग्रुप के अध्यक्ष विजय जौली को भी विशेष आमंत्रण पर बुलाया गया था.

इस अवसर पर छात्रों को सम्बोधित करते हुए वरिष्ठ भाजपा नेता विजय जौली ने बताया कि भारत में जब से नरेंद्र मोदी जी पीएम हुए हैं भारत की विदेश नीति में आश्चर्जनक बदलाव आये हैं. ख़ासतौर पर पड़ोसी देशों से रिश्ते मज़बूत हुए हैं.भारत चीन विदेश नीति में मोदी जी के नेतृत्व में कई क्रांतिकारी बदलाव दिखाई देंगे.

श्री जौली ने बताया कि पीएम मोदी ने 36 महीनों में 49 देशों की यात्रा कर भारत की विदेश नीति को सुदृढ़ बनाया है. मोदी जी तीन बार चीन की यात्रा कर चुके हैं. एक बार चीनी राष्ट्रपति जिनपिंग भी एक बार भारत आ चुके हैं.

वरिष्ठ भाजपा नेता विजय जौली ने बताया कि भविष्य में 600 चीनी कंपनियां 85 अरब अमेरिकी डॉलर का निवेश करने वाली है जिससे 7 लाख नौकरियों के अवसर मिलेंगे.24 से 28 अक्टूबर तक हुई इस यात्रा में वाईएसआर कांग्रेस की गीता कोठापल्ली, रायबरेली कांग्रेस विधायक अदिति सिंह,बसपा के जलालपुर विधायक रितेश पांडेय भी आमंत्रित थे.

Please follow and like us:

ऑस्ट्रेलिया में हिंदी को शौहरत दिला रहे हैं …पॉपुलर मेरठी

दिल्ली. हिंदुस्तान के चहेते शायर पॉपुलर मेरठी इन दिनों ऑस्ट्रेलिया में हिंदी-उर्दू का परचम लहरा रहे हैं.२५ अक्टूबर से ३ नवंबर तक ऑस्ट्रेलिया के सिडनी,केनबरा और मेलबोर्न के मुशायरों में शिरकत करेंगे.पॉपुलर मेरठी के साथ इस दौरे में सुप्रसिद्ध फ़िल्मी गीतकार-शायर एएम तुराज़ भी हैं.तुराज़ ने हाल ही में फिल्म ‘पद्मावती’ के सभी गीत लिखे हैं.

विदेशों में भारतीय साहित्य के उत्थान के लिए सक्रिय संस्था एमएसके इवेंट ने मुशायरों का आयोजन किया है. फोन पर शगुफ्ता टाइम्स को पॉपुलर मेरठी ने बताया कि कवि दरबार के नाम से मशहूर मुशायरों को यहाँ काफी शौहरत मिली हुई है.तुराज़ और मैंने अभी तक जो मुशायरे पढ़े हैं उनमें भारत की ही तरह हमें खूब दाद मिल रही है.इससे हमारे मुल्क हिंदुस्तान का नाम रौशन हो रहा है.

पॉपुलर मेरठी मुख़्तसर परिचय

वैसे तो मेरठ की सरजमीं कई बड़े शायरों और कवियों से सरसब्ज रही है। लेकिन पॉपुलर मेरठी ने शहर मेरठ को एक नई पहचान दी है. वे चालीस साल से मुशायरे और कवि सम्मेलन में कलाम पेश कर रहे हैं .उनका पूरा नाम सैय्यद एजाजउद्दीन शाह है. वे अमेरिका, पाकिस्तान, सऊदी अरब, दुबई, कतर, दोहा, मॉरीशस, ऑस्ट्रेलिया, कुवैत, यमन व रूस आदि देशों में कलाम पेश कर चुके हैं. विदेशों में 70 से अधिक संस्थाएं सम्मान कर चुकी हैं और उन्हें ‘मेरठ-रत्न’ भी मिला.

Please follow and like us:

गाने की तरह फिल्म भी हिट होगी …फिल्म पद्मावती के गीतकार ए.एम् तुराज़

परवीन अर्शी की मुलाकात फिल्म ‘पद्मावती’ के गीतकार ए.एम् तुराज़ के साथ…

ए.एम् तुराज़ का जन्म 19 सितम्बर,1981 को मुज़फ्फरनगर के सम्भलहेड़ा गांव के मीरानपुर,उत्तरप्रदेश में हुआ.अपनी पढ़ाई ख़त्म करने के बाद तुराज़ ने लेखक बनने की चाहत में मुंबई का रुख किया.

• लिखना कैसे शुरू किया ?..

शौक था लिखने पढ़ने का खूब लिखता था मैं और सोचा मेरे सपनों की जगह ,उत्तरप्रदेश नहीं मुंबई है और बस चला आया मुंबई 19 साल की उम्र में  2002 में .

• फिल्म और टीवी में मौका कैसे मिला ?

पहले असिस्टेंट राइटर के रूप में काम किया साबुनो के एड के लिए स्क्रिप्ट लिखी,  2005 में मैंने एक टीवी सीरियल के लिए लिखा.मेरा पहला असाइनमेंट फिल्म ‘ कुड़ियों का है ज़माना’ का था, जिसके के लिए गीत लिखे थे.फिर ‘जेल’,’गुज़ारिश’,’चक्रव्यूह’ और ‘जैकपोट’ जैसी फिल्मों के लिए था.

• संजय लीला भंसाली से कैसे मुलाकात हुई?

संजय जी से मेरी मुलाकात संगीतकार इस्माइल दरबार ने करवाई थी, वे मेरा लिखा हुआ गाना कंपोज़ करके उन्हें सुनाने गए थे.

• क्या संजय जी को आपके गाने पसंद आये थे ?

जी हाँ बिलकुल, उन्होंने मुझे अपनी फिल्म ‘गुज़ारिश’ में लिखने का मौक़ा दिया था,’तेरा ज़िक्र है…’ मेरा ही गीत है.फिर ‘बाजीराव मस्तानी’ के गीत लिखे, ‘तुझे याद कर लिया है,आयत की तरह…’, गीत काफी हिट हुआ था.

• ‘पद्मावती’ एक ऐतिहासिक फिल्म है,कितना मुश्किल था इस फिल्म के लिए लिखना ?

मुश्किल तो था,लेकिन नामुमकिन नहीं था, क्योंकि इस फिल्म के लिए वो गाने चाहिए थे,जो उस ज़माने के राजा महाराजाओं के दौर से मेल खाते हों ,वह दौर कुछ अलग ही था. पद्मावती के सभी गाने मैंने ही लिखे हैं.

• आपका फिल्म ‘पद्मावती’ का गाना ‘घूमर रमवाने आप पधारो सा…’.काफी हिट हो गया है क्या इस गाने के हिट होने की उम्मीद थी आपको?

जी ! उम्मीद तो थी, लेकिन इतना हिट हो जायेगा सोचा नहीं था.अब तक लगभग 2 मिलियन लोग इस गाने को देख चुके हैं.और इस फिल्म के बाक़ी गाने भी ज़बरदस्त हिट होंगे.

• मुशायरों में शिरकत का ख़याल कब और कैसे आया?

पिछले चार सालों से मैं मुशायरों में शिरकत कर रहा हूँ.पॉपुलर मेरठी खींच लाये मुझे मुशायरों में,सोचा इसी बहाने लोगो से रूबरू होकर अपने कुछ कलाम सुनाने का मौक़ा मिल जायेगा.

• आगे आने वाले दिनों में आप के कोई नए प्रोजेक्ट्स ?

जी हाँ मुशायरों के साथ साथ कुछ फिल्मों के असाइनमेंट्स हैं,उन्हें पूरा करूंगा.

• क्या गाना हिट होना का जश्न होगा?

जी ज़रूर होगा जश्न लेकिन फिल्म हिट होने का,अभी तो दोस्तों के साथ ख़ुशी मनेगी.

Please follow and like us:

योगी ने आधे घंटे किये ताज के दीदार, ताज के बाहर सफाई अभियान चलाया

आगरा. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ दो दिन के आगरा के दौरे पर हैं। इस दौरे में भी नगला पेमा और कछपुरा होते हुए ताजमहल के पश्चिमी गेट पर पहुंचे। वहां उन्होंने पार्किंग एरिया में अपने कार्यकर्ताओं के माध्यम से झाड़ू लगाकर स्वच्छता का संदेश दिया। इस दौरान झाड़ू से उन्होंने सफाई की। इसके बाद आधे घंटे तक ताज महल के दीदार किये.जब वे विवादों के बीच ताज का दीदार कर रहे थे, दूसरी ओर भाजपा समर्थक भारत माता के जय के नारे लगा रहे थे।

ताजमहल के पश्चिमी दरवाजे पर सफाई अभियान के बाद सभा में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि वह आगरा के विकास में कोई कोर-कसर बाकी नहीं छोडे़ंगे। ताजमहल पर चल रही बयानबाजी को को नज़र अंदाज़ करते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ तन्मयता के साथ ताज महल की खूबसूरती को निहारते रहे.

उन्होंने कहा कि जब तक वह उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री हैं, जब तक वह आगरा के पर्यटन विकास में कोई कसर नहीं छोडे़गे। सीएम योगी ताजमहल में सफाई अभियान के बाद शाहजहां पार्क का निरिक्षण भी किया.पिछले दिनों ताजमहल को लेकर शुरू हुए विवाद के बाद सीएम योगी ने ऐलान किया था कि वह ताजमहल का दौरा करेंगे.

उधर योगी सरकार के खिलाफ लगातार तंज भरे ट्वीट करने वाले समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष और पूर्व सीएम अखिलेश यादव ने इस बार भी योगी के ताजमहल दौरे से जुड़ा एक ट्वीट किया है.हालांकि ट्वीट में अखिलेश यादव ने किसी का नाम नहीं लिया है. लेकिन इसका इशारा साफ समझा जा सकता है. अखिलेश ने लिखा है कि ये है जमुना किनारे खड़े ताज का कहना, ये है प्यार का तीर्थ, यहां भी आते रहना.

Please follow and like us:

अल्पसंख्यक मंत्रालय को झटका,बिना मेहरम के हज की अनुमति नहीं

दिल्ली. कुछ समय पहले अल्पसंख्यक मामलों के मंत्रालय ने नई हज नीति के चलते मोदी सरकार तीन तलाक के बाद अब मुस्लिम महिलाओं को एक और तोहफा दिया था कि मोदी सरकार की नई हज नीति के तहत मुस्लिम महिलाएं बिना किसी मेहरम (पति, पिता या भाई) के भी स्वतंत्र रूप से हज यात्रा कर सकेंगी.

भारत यात्रा पर आए सऊदी अरब स्थित हरम मक्की के मुफ़्ती प्रोफेसर डॉ वसीउल्लाह अब्बास ने इंकार करते हुए कहा है कि मेहरम के बगैर औरतों का हजयात्रा पर जाना नाजायज़ है. मुफ़्ती ने स्पष्ट करते हुए कहा कि औरत चाहे कितनी ही बूढी क्यों न हो जाए, हजयात्रा के लिए मेहरम साथ होना जरूरी है.

मुफ़्ती वसीउल्लाह अब्बास भारत के दौरे पर 

हरम मक्की के मुफ़्ती प्रोफेसर डॉ वसीउल्लाह अब्बास जमीअत अलअरबिया अलहिंद की निमन्त्रण पर औरंगाबाद के दौरे पर आए हैं.उसने मीडिया से बातचीत करते हुए यह कहा कि सऊदी सरकर ने मेहरम के बगैर हजयात्रा की इजाजत नहीं दी है. मुफ्ती हरम के बयान से यह मामला उलझ गया है. अब यह देखना दिलचस्प होगा कि भाजपा सरकार मुफ्ती हरम के बयान पर कैसी प्रतिक्रिया देती है.

नई हज नीति में किया था बदलाव

उल्लेखनीय है कि भारत सरकार के अल्पसंख्यक मामलों के मंत्रालय की ओर से पिछले दिनों हज पालिसी में बदलाव करते हुए ऐलान किया गया था कि 45 साल से ज्यादा की उम्र की औरतें चार के ग्रुप में बगैर किसी मेहरम के हज पर जा सकती हैं।अभी तक कोई भी मुस्लिम महिला अपने खून के रिश्ते वाले रिश्तेदार के बिना हज पर नहीं जा सकती थी। सऊदी अरब भी 45 और इससे अधिक उम्र की महिलाओं को हज के लिए प्रवेश की अनुमति देता है.

भारत के आलिमों ने कहा था

जब भारत के आलिमों ने इसे गैर-शरइ बताया तो उन्हें औरतों की आज़ादी और तरक्की का विरोधी बतलाया गया. इस मामले में केन्द्रीय मंत्री मुख़्तार अब्बास नकवी ने खुलासा किया था कि अन्य देशों की महिलाएं भी इस तरह हज कर रही हैं और सऊदी सरकार ने खुद इस की पहल की है.बता दें कि सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर अमल करते हुए नई हज नीति में सब्सिडी की व्यवस्था खत्म करने को भी हरी झंडी दे दी है।

हज रवानगी सेंटर

इस नई नीति में हज यात्रियों को देश में बेहतर सुविधाएं देने पर जोर दिया गया है. इसके लिए हज रवानगी स्थलों की संख्या 21 से घटाकर नौ की जाएगी. इनमें दिल्ली, लखनऊ, कोलकाता, अहमदाबाद, मुंबई, चेन्नई, हैदराबाद, बेंगलुर और कोच्चि शामिल हैं.इन जगहों पर सरकार अत्याधुनिक सुविधाओं से लैस हज हाऊस का निर्माण करेगी. जो प्रस्थान स्थल इस सूची से बाहर हैं. वहां हज यात्रियों के लिए बनी सुविधाओं का इस्तेमाल शैक्षिक गतिविधियों के लिए किया जाएगा.

Please follow and like us:

रोहिंग्या मामले में ब्रिटिश मंत्री प्रीति पटेल ने की भारत की आलोचना

दिल्ली.मोदी सरकार ने भारत में रहने वाले रोहिंग्या मुस्लिमों को देश के लिए खतरा बताते हुए उन्हें केंद्र सरकार वापस रोहिंग्या भेजना चाहती है. भारतीय मूल की प्रीति पटेल ब्रिटेन में अंतर्राष्ट्रीय विकास की सेक्रेटरी ऑफ़ स्टेट हैं.

प्रीति पटेल भारत के रुख की आलोचना के साथ भारतीय प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी की प्रशंसा की और उन्हें एक प्रभावशाली नेता बताया है. बीबीसी के अनुसार प्रीति पटेल ने रोहिंग्या मुसलमानों को अपने देश से वापस भेजने के बारे में कहा कि मेरा ख्याल है कि यह अवास्तविक है. उन्होंने कहा कि वहां की जमीनी हालत देखें, म्यांमार में पांच लाख से अधिक लोगों को सताया जा रहा है. रखाइन राज्य में नरसंहार जारी है.

प्रीति पटेल ने कहा कि यह कहना अनुचित होगा कि पांच लाख लोग सुरक्षा के लिए खतरा हैं. वे अपने घरों को इस लिए छोड़ रहे हैं ताकि वह जिंदा रह सकें।ब्रिटिश प्रधान मंत्री थ्रेसामे की कैबिनेट में सीनियर मंत्री प्रीति पटेल ने रोहिंग्या के मुद्दे पर भारत के रुख की आलोचना की है.

उल्लेखनीय है कि केंद्र में सत्तासीन मोदी सरकार ने भारत में रहने वाले रोहिंग्या मुसलमानों को देश की सुरक्षा के लिए खतरा बताया है और सरकार उन्हें वापस म्यांमार भेजना चाहती है. वहां के लोग किसी वजह से निकल रहे हैं. वह इसलिए नहीं जा रहे हैं कि वह किसी दुसरे देश में पनाह लेना चाहते हैं. वे अपने घर बार को इस लिए छोड़ रहे हैं कि उन्हें सताया जा रहा है.

Please follow and like us:

sadhvi kaa vivadit bayaan

साध्वी का हज यात्रा पर विवादित बयान

चंडीगढ़। शादी समारोह में फायरिंग कर बड़े विवाद में फंसी साध्वी देवा ठाकुर ने अमरनाथ यात्रियों पर हुए आतंकी हमले के बाद विवादित बयान दिया है। साध्वी ने असदुद्दीन ओवैसी और आजम खान पर अभद्र टिप्पणी की। साध्वी ने आतंकी हाफिज को गाली दी।
साध्वी देवा ठाकुर ने कहा कि जब हज यात्रा निकलेगी, तो शिव भक्त भी जवाब देंगे। फेसबुक पर लाइव चैट के दौरान साध्वी देवा कह रही हैं कि तुम लोग हज के लिए दिल्ली-मुंबई होकर ही जाओगे, उस दिन शिवभक्त, गोभक्त और राष्ट्रभक्त देखना, कैसे बदला लेंगे।
साध्वी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नाम भी संदेश दिया और कहा है कि निंदा करने से कुछ नहीं होगा, कार्रवाई करिए। साध्वी ने कहा अमरनाथ यात्रा पर हमला हुआ और 7 श्रद्घालु मारे गए, लेकिन ओवैसी और आजम खान का बयान नहीं आया। ये ‘भौंकने’ वाले नेता अब चुप क्यों हैं। हालांकि, आपको बता दें कि ओवैसी ने अमरनाथ यात्रियों पर हुए आतंकी हमले की निंदा की थी। साध्वी देवा ठाकुर ने कहा कि पाकिस्तान में छुपा बैठा हाफिज भारत में गंदगी फैला रहा है, उसका अंत जरूरी है।

Please follow and like us:

बनारस में भाजपा कार्यकर्ताओं ने केशव मौर्या मुर्दाबाद के नारे लगाए

वाराणसी.यहां काशी क्षेत्र के 14 जिलों की मीटिंग लेने पहुंचे उत्तर प्रदेश भाजपा अध्यक्ष केशव प्रसाद मौर्या का कार्यकर्ताओं ने जमकर विरोध किया। बीजेपी के टि‍कट बंटवारे कोलेकर नाराज कार्यकर्ताओं ने मौर्या के सामने ही मुर्दाबाद और वापस
जाओ के नारे तक लगाए। यही नहीं नरेंद्र मोदी के जनसंपर्क ऑफि‍स में भी नारे लगाकर विरोध किया। कार्यकर्ताओं की
इस हरकत पर मौर्या ने मंच से ही कहा, 2017 का चुनाव जीतना है। संयम
नहीं रखेंगे तो 2019 का चुनाव नरेंद्र मोदी को जीता पाना मुश्किल होगा।

मौर्या का मुर्दाबाद से स्वागत 
पूर्वांचल के बीजे पी कार्यकर्ताओं  के साथ मीटिंग लेने जैसे ही  केशव प्रसाद मौर्या और वरिष्‍ठ नेता ओम माथुर पहुंचे वैसे ही कार्यकर्ताओं ने उनका स्वागत मुर्दाबाद के नारों से साथ किया। टिकट बंटवारे को लेकर मुख्य रूप से वाराणसी के कैंट, रोहनिया, जौनपुर के सदर, जौनपुर के ही बदलापुर और मिर्जापुर के मड़िआऊ विधानसभा को लेकर था। विरोध होता देख केशव मौर्या ने बैठक से बाहर भी जाने की गुजारिश कर दी।

Please follow and like us:

कश्मीर हिमस्खलन: गुरेज में 4 और जवानों के शव बरामद, 15 फौजी समेत 21 की मौत

श्रीनगर.कश्मीर के गुरेज सेक्टर में बुधवार को हुई हिमस्खलन की दो घटनाओं में शहीद होने वाले जवानों का आंकड़ा 15 हो गया है. गुरुवार को 4 और शवों को बरामद किया गया है जिसके बाद रेसक्यू ऑपरेशन खत्म हो गया है. शहीद होने वालों में 1 मेजर और 14 जवान शामिल हैं. इसके अलावा 6 नागरिकों की भी राज्य में हिमस्खलन और बर्फीले तूफान के कारण मौत हो गई है. कुल आंकड़ा 21 तक पहुंच गया है. गौरतलब है कि घाटी में बेहद खराब मौसम और बर्फबारी से हालात खराब है. जगह-जगह बर्फीले तूफान या हिमस्खलन का सिल‍सिला जारी है.
बुधवार सीमा के पास गुरेज सेक्टर में हुई हिमस्खलन की घटना में कई जवान दब गए थे. इस घटना में एक जेसीओ सहित छह जवानों को बचा लिया गया है. इसी इलाके में कल हुई हिमस्खलन की एक और घटना में सेना का एक निगरानी वाहन लापता हो गया था.

एक दिन पहले ही गांदरबल जिले के सोनमर्ग इलाके में स्थित सेना के एक शि‍विर में हिमस्खलन से एक मेजर की मौत हो गई थी. दूसरी तरफ, कुपवाड़ा जिले में स्थित तुलेल में बर्फीला तूफान आने से चार लोगों के उसके नीचे दबकर मर गए थे. गौरतलब है कि कश्मीर में भारी बर्फबारी हो रही है और मौसम बेहद खराब हो गया है. मंगलवार शाम को ऐसे बर्फीले तूफान आने की चेतावनी पहले ही जारी की जा चुकी थी. बर्फीले तूफान से प्रभावित पूरे इलाके में बचाव कार्य किया जा रहा है. बुधवाार से अब तक कश्मीर में हिमस्खलन की तीन बड़ी घटनाएं हो चुकी हैं. प्रशासन ने लोगों को घर के भीतर रही रहने की सलाह दी है.

Please follow and like us: