मेरे अरमान अभी बाक़ी हैं ….

  मेरे अरमान अभी बाक़ी हैं ….

ज़िन्दगी अभी ठहर जा
वो लम्हे, वो पल अभी बाक़ी हैं

आने वाला वो कल अभी बाक़ी है

समेट लूंगी ख़ुद को अपने
अरमानो के साथ

वो घड़ी वो पल अभी बाक़ी हैं

रुक जा, ठहर जा, वो तूफ़ान अभी बाक़ी है

ज़िन्दगी का इम्तेहान अभी बाक़ी है

कुछ कोशिशें अभी बाक़ी हैं

कुछ कामयाबी अभी बाक़ी हैं

कुछ खाहिशें अभी बाक़ी हैं

कुछ ज़रूरतें अभी बाक़ी हैं

वो देख मेरी जान अभी बाक़ी हैं

मेरा अरमान अभी बाक़ी है

वो सलाम अभी बाक़ी है

वो कलाम अभी बाक़ी है
by

परवीन अर्शी (अरमान)

Please follow and like us:

Leave a Reply

Skip to toolbar